शिक्षकों की मनमानी, विद्यार्थियों के भविष्य पर मंडराया खतरा

विद्यालय में प्रधानाचार्य नहीं होने पर पढ़ाई ठप

 
teacher's arbitrariness

 

  • रिपोर्टः चंद्रभान सोलंकी

जैसलमेर। राजस्थान के जैसलमेर में रायमला के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में शिक्षकों की मनमानी के कारण विद्यार्थियों का भविष्य संकट में नजर आ रहा है। यहां शिक्षक अपनी मर्जी से आते है और अपनी मर्जी से जाते है।  

दरअसल... भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले जैसलमेर के रामगढ़ इलाके के रायमला गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय बदहाली का शिकार हो रहा है। इस विद्यालय में प्रधानाचार्य का पद रिक्त होने के कारण शिक्षक अपने मन मुताबिक आते जाते हैं, और जब ग्रामीणों ने विद्यालय जाकर देखा तो सच्चाई पता चली। ग्रामीणों ने बताया कि जब वे स्कूल में गए तो सभी कक्षाएं खाली थी और कुछ छात्र टेबलों पर सो रहे थे और कुछ खेल रहे थे। जिसका वीडियो बनाकर ग्रामीणों ने वायरल कर दिया है।               

रायमला निवासी भूर सिंह ने बताया कि यहां नियुक्त शिक्षक अपनी मनमर्जी से आते है। उनके नहीं आने का समय निर्धारित है और नहीं जाने का शिक्षक विद्यालय में अपनी हाजिरी लगाने के बाद टाइम पास कर लौट जाते है। ग्रामीणों का कहना है कि शिक्षकों के इस रवैए के कारण विद्यार्थियों का भविष्य अंधकारमय हो रहा है। भूर सिंह ने बताया कि अध्यापक स्कूल आते और टाइम पास कर चले जाते है, वहीं बच्चों को पोषाहार भी समय पर नहीं दिया जाता है।भूरसिंह ने बताया कि रायमला के उच्च माध्यमिक विद्यालय में व्याप्त अव्यवस्थाओं में सुधार के प्रयास कहीं नजर नहीं आ रहे हैं।