मोदीनगर में गन्ना किसानों का नहीं हो रहा भुगतान, किसानों ने जताया विरोध

मील पर ब्याज समेत किसानों का 300 करोड़ रुपया है बकाया

 
UP SUGAR M MILL

  • रिपोर्टः अजीत रावत

गाजियाबाद। यूपी सरकार भी अन्नदाता किसानों के गन्ना भुगतान को लेकर चर्चाओ में बनी रहती है, और अब यूपी सरकार के दावे फ़ैल होते नजर आ रहे है। यूपी की कई ऐसी शुगर मीले है जहां किसानो का भुगतान अभी तक नही हुआ है।

दरअसल... गाजियाबाद में 1933 से स्थापित मोदी शुगर मील पर मौजूद कई गन्ना किसानों ने बताया की 5 से 10 वर्षों का उनका गन्ने का भुगतान बचा हुआ है। जिसमें मील के अधिकारी कोई सुनवाई नहीं करते हैं और वे इसकी आवाज उठाते हैं तो उन पर फर्जी मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी देते है। 2019 में भी उन्होंने आवाज उठाई तो उन किसानों पर फर्जी मुकदमा दर्ज करवा दिया गया। किसानों ने बताया की मोदी शुगर मील पर हजारों गन्ना किसानों का 236 करोड़ रुपये इसी वर्ष का बकाया है और मोदी चीनी मील ऐसी मील थी जो पिछले 20 वर्षो से किसानों को उनके भुगतान का ब्याज भी देती थी और अब पिछले 4 वर्षो से किसानों को ब्याज भी देना बन्द कर दिया। करीब ब्याज का ही 70-80 करोड़ रूपया किसानों का मील पर बकाया है जिसमें से एक भी रुपये का भुगतान अभी तक नही हुआ है। किसानों ने बताया कि टोटल ब्याज समेत किसानो का मोदी चीनी मील पर करीब 300 करोड़ बकाया है।