दिल्ली के प्रदूषण पर कहर बनकर टूटी बारिश, शुद्ध कर दी राजधानी की आबोहवा

महज 53 रह गया वायु गुणवत्ता सूचकांक

 
AIR POLLUTION LOSS

दिल्ली। लगातार हुई तीन-चार दिन की बारिश ने वो काम करके दिखा दिया है, जो केंद्र की बीजेपी और सूबे की केजरीवाल सरकार लाखों-करोड़ों रुपये खर्च करके भी नहीं कर पाई। सरकार की ना कोई योजना काम आई और ना ही बंदिशें, लेकिन चंद रोज़ के लिए हुई बारिश ने दिल्ली में सांस को लेने लायक बना दिया। जी हां... हम बात कर रहे राजधानी दिल्ली की फिज़ा की, जो दिवाली के बाद से लगातार खराब होती जा रही थी। वायु प्रदूषण इस कदर बढ़ता जा रहा था कि दिल्ली वासियों को सांस लेना दुभर होता जा रहा था। मगर लगातार हो रही बारिश राजधानी के प्रदूषण पर काल बनकर टूटी, जिसका नतीजा ये रहा कि आज दिल्ली की आबोहवा एकदम तरोताज़ा हो गई है। सोमवार को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक मजह 53 रिकॉर्ड किया गया, जो दिवाली के बाद करीब 400 तक जा पहुंचा था।

आपको ये भी बता दें कि जब से सर्दी के इस मौसम में बारिश शुरू हुई थी, तब से धीरे-धीरे दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक कम होना शुरू हो गया था। शनिवार को जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 100 से ऊपर था तो रविवार को ये घटकर 90 पर पहुंच गया और आज ये केवल 53 ही रह गया।