सुरभि गौशाला में 25 गाय लंपी वायरस से हुई ग्रसित

ग्रस्त गाय को वैक्सीन लगवाकर गौशाला की गायों से रखा गया अलग

 
COW

 

  • रिपोर्टः विष्णु शर्मा

मथुरा। इन दिनों देश के 12 राज्यो में लंपी वायरस नामक बीमारी पशुओं में बड़ती जा रही है। खास कर इसका असर पड़ोसी राज्य राजस्थान में कहर बरपा रहा है। वहीं राजस्थान से सटे मथुरा जनपद में भी इसका असर देखने को मिल रहा है। सरकार द्वारा बड़े पैमाने पर मबेशियो को बचाने के लिए कदम भी उठाए जा रहे है। वायरस की रोक थाम के लिए प्रभावित जिलों में सरकार द्वारा वेटनरी एम्बुलेंस काम कर रही है, और पशुओं को 17 लाख 50 हज़ार के करीब टीके भी उपलब्ध कराए गए है।

दरअसल... कान्हा की नगरी मथुरा में वैसे तो इस लंपी वायरस का असर खास नही है,  लेकिन फिर भी कई गौशालाओ में इसका असर देखने को मिल रहा है,  जनपद भर में लगभग पिछली पशुगणना के अनुसार करीब दो लाख 30 हजार गोवंश है,  जिसमें से 50 हजार गोवंश लावारिस घूम रहा है।  इनकी देखभाल के लिए जिले की 32 पंजीकृत और 80 अपंजीकृत गोशालाएं प्रयासरत हैं, इनके अलावा 18 अस्थाई गोआश्रय स्थल और भी विकसित किए जा रहे हैं।

वही गोवर्धन में लगभग 17 हज़ार गौवंश है,  जिनमे से लगभग 2 से 3 हज़ार के करीब गौवंश लावारिश घूमते नजर आते है ये आंकड़ा गोवर्धन के गौसेवक धीरज कौशिक ने बताया है। इस बीच जब गौसेवक धीरज कौशिक से बात हुई तो उन्होंने बताया कि वो विगत 10 वर्षों से गायों की सेवा कर रहे है।  गोवर्धन में बैसे तो लंपी वायरस की बजह से अभी तक गायों की मौत नही हुई है,  लेकिन कुछ गौशालाओ में गाय लंपि वायरस से प्रभावित हुई है, जो कि पड़ोसी राज्य राजस्थान से गंभीर हालत में गौशालाओ में लाई गई थी।

राधाकुण्ड के पद्मश्री राधासुदेवी दासी गौसेवक नेम सिंह ने बताया कि सुरभि गोशाला लगभग तीन हज़ार गौवंश है जिनमें लगभग आठ सौ के करीब गाय अन्यत्रत बीमारियों से ग्रसित है जिनका इलाज चल रहा है। 25 गाय लंपी वायरस से ग्रसित है। जिन्हें सरकारी डॉक्टरो द्वारा लंपी वायरस से बचने के लिए वैक्सीन दी गई है वैसे सभी गाय सुरक्षित है,  लेकिन गौशाला में 25 गाय लंपी बीमारी ग्रस्त है उन्हें गौशाला की गायों से अलग रखा गया है। जिनका निरन्तर इलाज चल रहा है।