बड़ी खबरः राकेश टिकैत पर कर्नाटक में हमला, एक ने मारा तो दूसरे ने फेंकी स्याही

एक प्रेस वर्ता के दौरान हुआ हमला, जमकर हुआ बखेड़ा और मारपीट, उच्च स्तरीय जांच की मांग
 
Rakesh Tikait

  • अमित सैनी, प्रधान संपादक

बेंगलुरू। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत पर प्रेस वार्ता के दौरान हमला हो गया। एक चैंनल के स्टिंग के मामले में सफाई देने के लिए रखी गई प्रेस वार्ता में राकेश टिकैट अपनी बात रख रहे थे कि उसी वक्त एक व्यक्ति मंच पर पहुंचा और राकेश के सामने रखी एक चैनल की माइक आईडी उठाकर उस पर हमला कर दिया और भागने लगा। सभी लोग उस वक्त को पकड़ने में मशगूल हो गए तो उसी वक्त पीछे से आए दूसरे व्यक्ति ने राकेश टिकैत और युद्धवीर पर स्याही फेंक दी।
दरअसल, सोमवार को बेंगलुरु के प्रेस क्लब में एक चैनल की ओर से किए गए स्टिंग ऑपरेशन के वीडियो पर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत एवं युद्धवीर सिंह अपनी सफाई देने के लिए पहुंचे थे। मीडिया के समक्ष ये लोग अपनी बात रख ही रहे थे कि अचानक एक व्यक्ति बड़े ही शांत तरीके से मंच पर पहुंचता है। राकेश टिकैत इससे पहले कुछ समझ पाते, उससे पहले ही उस वक्त ने मेज पर रखी एक चैनल की माइक आईडी उठाई और घुमाकर राकेश टिकैत के मुंह पर दे मारी। इस कांड को करने के बाद जैसे ही वो व्यक्ति भागने लगा तो उसे मौके पर मौजूद लोगों ने पकड़ लिया और उसकी धुनाई शुरू कर दी। सभी लोगों का ध्यान केवल उसी व्यक्ति पर केंद्रित था और राकेश टिकैत आदि भी खड़े होकर ये ही तमाशा देख रहे थे। इसी बीच पीछे से एक अन्य व्यक्ति भी मंच पर पहुंचा और भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत एवं युद्धवीर सिंह पर काली स्याही फेंक कर मुंह पर कालिख पोत दी।

Rakesh Tikait

जमकर हुआ बखेड़ा और मारपीट
इस घटना के बाद सभी लोग असहज थे। मौके पर मौजूद भारतीय किसान यूनियन के लोगों ने दोनों को मौके पर ही दबोच लिया और उनकी जमकर धुनाई शुरू कर दी। प्रेस वार्ता देखते ही देखते युद्ध के मैदान में तब्दील हो गई।
क्या था वीडियो में?
दरअसल, जिस चैनल के स्टिंग ऑप्रेशन के संबंध में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत एवं युद्धवीर सिंह आदि प्रेस वार्ता करने पहुंचे थे, उस वीडियो में कर्नाटक के किसान नेता कोडीहल्ली चंद्रशेखर को पैसे मांगते हुए दिखाई पड़ रहा है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत और युद्धवीर सिंह इस बात की सफाई देने के लिए पहुंचे थे कि वो इस मामले में शामिल नहीं है और धोखेबाज किसान नेता कोडीहल्ली चंद्रशेखर के खिलाफ पैसे मांगने के मामले में कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।
राकेश टिकैत ने इसे सरकार की साजिश दिया करार
मौजूद पत्रकारों से बात करते हुए राकेश टिकैत ने इसे सरकार की साजिश करार दिया। उन्होंने कहा कि स्थानीय पुलिस की ओर से यहां कोई सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई है। ये सरकार की मिलीभगत से किया गया है। सुरक्षा की जिम्मेदारी लोकल पुलिस की होती है। वहीं इस घटना का जिम्मेदार स्थानीय किसान नेताओं को ही बताया जा रहा है।
नरेश टिकैत ने की उच्च स्तरीय जांच की मांग
पूरे मामले को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत के बड़े भाई और भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि कर्नाटक राज्य रैयत संघ की किसान पंचायत में राकेश टिकैत और युद्धवीर सिंह से हुए दुर्व्यवहार की भारतीय किसान यूनियन कड़ी निंदा करती है। यह दुर्व्यवहार किसानों के सम्मान पर कुठाराघात है। बीकेयू कर्नाटक सरकार से उच्चस्तरीय जांच और सुरक्षा की मांग करती है।