राष्ट्रीय पर्यटन दिवस 2023: 25 जनवरी को मनाया जाएगा राष्ट्रीय पर्यटन दिवस, जानिए क्या है इसका महत्व

देश के आर्थिक विकास पर पर्यटन क्षेत्र के प्रभाव को फैलाना है राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाने का उद्देश्य
 
 National Tourism Day

नई दिल्ली। हर साल 25 जनवरी को राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाया जाता है। इस दिन पर्यटन क्षेत्र के विकास के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाने का उद्देश्य देश के आर्थिक विकास पर पर्यटन क्षेत्र के प्रभाव को फैलाना है।

इतिहास
भारत में पर्यटन क्षेत्र को पहली बार 1948 में पेश किया गया था। 1948 में एक पर्यटन समिति का गठन किया गया था। बाद में 1958 में, पर्यटन और संचार मंत्रालय के तहत एक अलग पर्यटन विभाग बनाया गया था।  देश आजाद होने के बाद भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एक पर्यटन यातायात समिति का गठन किया गया। इसके तीन साल बाद यानी 1951 में कोलकाता और चेन्नई में पर्यटन दिवस के क्षेत्रीय कार्यालयों में बढ़ोतरी की गई। दिल्ली, मुंबई के अलावा कोलकाता और चेन्नई में पर्यटन कार्यालय बनाए गए।  

भारत में राज्यवार पर्यटन
राज्य में आने वाले पर्यटकों की संख्या सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में है। महाराष्ट्र में सालाना पांच लाख से अधिक पर्यटक आते हैं। महाराष्ट्र के बाद, तमिलनाडु चार लाख से अधिक पर्यटकों के साथ पर्यटन में दूसरे स्थान पर है। इन दोनों राज्यों के बाद उत्तर प्रदेश और दिल्ली क्रमश: तीसरे और चौथे स्थान पर हैं। यूपी में राज्य में तीन लाख से अधिक पर्यटक आते हैं और दिल्ली में दो लाख से अधिक पर्यटक आते हैं।

advt stnews

भारत में पर्यटन
वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल के अनुसार, भारत में पर्यटन क्षेत्र ने सालाना 220 बिलियन डालर का राजस्व उत्पन्न किया। साथ ही, पर्यटन क्षेत्र का देश के कुल सकल घरेलू उत्पाद में 9.2% का योगदान है। यह क्षेत्र रोजगार में 8.1% का योगदान देता है। भारत का चिकित्सा पर्यटन 3 बिलियन डालर है और इसके और बढ़ने की उम्मीद है।

पर्यटन का महत्व
इस दिवस के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा देना और अर्थव्यवस्था में पर्यटन की अहम भूमिका को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाना है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस को हर साल एक नई थीम के साथ मनाया जाता है। पर्यटन के माध्यम से न केवल भारतीय अर्थव्यवस्था को लाभ होता है बल्कि इसके माध्यम से रोजगार के अवसर भी बढ़ते हैं। इसके अलावा बाहर के देशों से आने वाले पर्यटकों को भारत की विरासत, संस्कृति, प्रकृति, स्मारकों आदि के माध्यम से देश की गौरवशाली इतिहास के बारे में ज्ञात होता है।

समाचार टुडे के लिए स्निग्धा श्रीवास्तव की रिपोर्ट