नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एंड आर्ट्स में मनाया गया योग दिवस

शिविर में 200 से अधिक लोगों ने किया योग

 
YOGA

  • रिपोर्टः राहुल तिवारी

इटावा। नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एंड आर्ट्स इटावा के परिसर में आजादी के अमृत महोत्सव की बेला में आठवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। जिसमें विद्यालय के प्रबंधक इंजीनियर हरि किशोर तिवारी, मुख्य प्रशासक इंजीनियर अंकित तिवारी, प्रधानाचार्य सीबीएसई धर्मेंद्र शर्मा, प्राचार्य उच्च शिक्षा योगेश दुबे के साथ-साथ शिक्षक समेत लगभग 200 लोगों ने शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए प्रतिभाग किया। इस अवसर पर आरके योग संस्थान इटावा के मुख्य सचिव एवं उत्तर प्रदेश योगासन खेल संघ के इटावा जनपद प्रभारी राहुल तिवारी एवं उनके सहयोगी योग प्रशिक्षक रवि कुमार, धर्मेंद्र राजपूत और योग शिक्षिका स्वाति दुबे मौजूद रहे।

राहुल तिवारी ने सभी लोगों को जीवन में योग के महत्व के बारे में बताया इसके बाद नाड़ी शोधन, भ्रामरी, कपालभाति, सूर्य नमस्कार, आदि अंग संचालन एवं प्राणायाम कराए। इसके साथ योगासन और विभिन्न प्रकार के योग मुद्राओं को सीखने के साथ योग से स्वस्थ रहने की जानकारियां दी। इस अवसर पर विद्यालय प्रबंधक इंजीनियर हरि किशोर तिवारी ने कहा कि योग के विभिन्न आसनों से शरीर के अलग-अलग हिस्सों को फायदा पहुंचता है। योग में शरीर के हर छोटे से छोटे अंग का व्यायाम होता है। और शरीर लचीला बनता है। उन्होंने कहा कि उनका ये ही दृष्टिकोण है कि समाज का हर एक व्यक्ति स्वस्थ रहे। इसलिए योग संबंधी गतिविधियां विद्यालय के पाठ्यक्रम में समायोजित की गई हैं।

विद्यालय के प्रधानाचार्य डॉ धर्मेंद्र शर्मा ने कहा कि योग सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य का साधन नहीं है। बल्कि ये हमारी मानसिक ऊर्जा के उत्कर्ष और आध्यात्मिक चेतना का आधार भी है। योग शरीर के साथ मन और आत्मा के जुड़ाव एवं संतुलन का नाम है। ध्यान और समाधि दोनों योग के अंग हैं। योग से घातक बीमारियां भी नष्ट होती हैं। योग के आसन शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त रखते हैं।

विद्यालय के मुख्य प्रशासक इंजीनियर अंकित तिवारी ने कहा कि योग अनुशासन है, समर्पण है, और इसका पालन पूरे जीवन भर करना होता है। योग आयु, रंग, जाति, संप्रदाय, पंथ, अमीरी, गरीबी, प्रांत और सरहद से परे है। योग सबका है और सब योग के हैं। योग दिवस के अवसर पर विद्यालय का समस्त स्टाफ मौजूद रहा।