दिल्लीः खुले रहेंगे धार्मिक स्थल लेकिन नहीं लगा सकेंगे अरदास

धार्मिक स्थलों पर पाबंदी को लेकर लोगों ने दी राय

 
फाइल फोटो
  • रिपोर्टः अज़ीज़ सैफी

राजधानी में कोरोना के बढ़ते मामले के बीच सभी धार्मिक स्थल खुले रहने पर तो कोई रोक नही लगाई गई लेकिन उस धार्मिक स्थल में भक्त के जाने पर पाबंदी को लेकर अलग अलग धार्मिक स्थल के प्रधान की राय अलग अलग है जहां अधिकतर लोग इस फैसले पर नाराजगी जता रहे वहीं कुछ इस फैसले की सराहना कर रहे,

ये भी पढ़ेः इस पुजारी की एक आवाज पर बाहर आकर बैठ जाते हैं मगरमच्छ, पुजारी और मगरमच्छ का पुराना याराना

दरअसल इस आदेश के बाद जहां मंदिर से जुड़े प्रबंधन का साफतौर पर कहना है कि ये फैसला सही नही है क्योंकि मंदिर में ऐसा तो है नही की भीड़ एकसाथ आती है लोग एक दो दो करके ही भगवान के दर्शन करने आते है और मन्दिर मे सेनिटाइजर के इंतजाम के साथ साथ आने वाले लोगों के सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा जाता है और जब मंदिर में लोग नही आएंगे तो पुजारी जो देख रेख करते हैं उनके लिए पैसे कहाँ से आएंगे,

ये भी पढ़ेः आस्था की अनोखी मिसाल, लड्डू गोपाल के हाथ पर प्लास्टर चढ़ाकर अस्पताल पहुंचा पुजारी

गुरुद्वारा प्रबंधन भी इस फैसले को लेकर सवाल उठा रहा, इनके अनुसार इस संकट की घड़ी में संगत गुरुद्वारे नही आएगी तो कहां जाएगी ये तो अजीबो गरीब फैसला है क्योंकि पिछले कोविड के वक्त सबने देखा कि सरकार ने क्या किया और गुरुद्वारों ने लोगों की कैसे मदद की।

वहीं मस्जिद से जुड़े प्रबंधन के लोग इस फैसले को लोगों की जान बचाने वाला बता रहे हैं इनके अनुसार हालात जिस तरह से बदल रहे हैं उसमे ये फैसला बेहतर है और इसमे धार्मिक संस्थान के प्रमुख लोगों को जागरूक करने में अहम भूमिका निभानी चाहिए