आज है ‘राष्ट्रीय किसान दिवस’, जाने क्या है इसका महत्व... पढ़िए पूरी ख़बर

किसानों को एक अलग अंदाज में दे बधाई

 
KISAN DIVAS

 देश में हर वर्ष 23 दिसंबर को किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन देश मेहनत करने वाले अन्नदाताओं के प्रति आभार व्यक्त करता है और भारत की अर्थव्यवस्था में उनके योगदान से अवगत होता है। किसान दिवस के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में कृषि वैज्ञानिकों के योगदान, किसानों की समस्याएं, कृषि क्षेत्र में नए प्रयोग, नई तकनीक, फसल पद्धति और खेती में बदलाव जैसे कई मुद्दों पर सार्थक चर्चा होती है।

KISAN DIVAS

देश को कृषि प्रधान देश कहा जाता है और यहां कि आधी से अधिक जनसंख्या आज भी खेती या इससे जुड़े कामों पर निर्भर है। ऐसे में आप सोच रहे होंगे कि आखिर 23 दिसंबर को ही क्या खास है कि इसी दिन किसान दिवस मनाया जाता है। 23 दिसंबर को ही देश के पांचवें प्रधानमंत्री और दिग्गज किसान नेता चौधरी चरण सिंह की जयंती है। उन्होंने अन्नदाताओं के हित में और खेती के लिए कई अहम काम किए हैं, जिन्हें इस दिन याद किया जाता है। चौधरी चरण सिंह कहा करते थे कि किसानों की दशा बदलेगी, तभी देश बढ़ेगा और इस दिशा में वे लगातार काम करते रहे।

KISAN DIVAS

23 दिसंबर, 1902 को उत्तर प्रदेश के एक किसान परिवार में जन्में चौधरी चरण सिंह गांधी से काफी प्रभावित थे और जब देश गुलाम था तो उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की लड़ाई भी लड़ी। आजादी के बाद वे किसानों के हित के काम करने में जुट गए। उनकी राजनीति मुख्य रूप से ग्रामीण भारत, किसान और समाजवादी सिद्धातों पर केंद्रित थी।

राष्ट्रीय किसान दिवस के अवसर पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 'कू' एप (Koo App) लिखा, 'देश के पूर्व प्रधानमंत्री और किसानों के कल्याण के लिए आजीवन समर्पित चौधरी चरण सिंह जी को जयंती पर सादर नमन तथा राष्ट्रीय किसान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.'