मैनपुरीः जिला अस्पताल में उपचार नहीं मिलने से 8 माह की बच्ची की मौत, पिता करता रहा 5 घंटे तक डॉक्टर का इंतजार

बच्ची को पेट दर्द के साथ दस्त की शिकायत होने पर अस्पताल लेकर पहुंचे थे परिजन

 
मैनपुरी

मैनपुरी। जिला अस्पताल में उपचार न मिलने से आठ माह की बच्ची की मौत हो गई। परिजन बीमार बच्ची को लेकर पांच घंटे तक जिला अस्पताल में इमरजेंसी और बाल रोग विशेषज्ञ के कक्ष के चक्कर काटते रहे, लेकिन मासूम को उपचार नहीं मिला। बच्ची को परिजन पेट दर्द के साथ दस्त की शिकायत पर अस्पताल लेकर पहुंचे थे।

दरअसल नगर कोतवाली इलाके के मोहल्ला गाड़ीवान निवासी जगबीर सिंह मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। जगवीर सिंह की आठ माह की पुत्री छाया पिछले दो दिनों से बीमार थी। उसे पेट दर्द के साथ दस्त हो रहे थे। हालत बिगड़ने पर परिजन उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। बच्ची की हालत गंभीर थी, इसलिए जगवीर बच्ची को इमरजेंसी में ले गया। जनवरी के अनुसार यहां मौजूद डॉक्टर और स्टाफ ने बच्ची को उपचार न देते हुए पांच नंबर कक्ष बाल रोग विशेषज्ञ के पास दिखाने की बात कही। आरोप है कि स्टाफ ने उसे इमरजेंसी से बच्ची समेत बाहर निकाल दिया।

जगबीर पत्नी के साथ बच्ची को लेकर पांच नंबर कक्ष में पहुंचा तो यहां बालरोग विशेषज्ञ नहीं थे। करीब दो घंटे तक जगवीर बच्ची को लेकर डॉक्टर का इंतजार करता रहा। इंतजार के बाद भी जब डॉक्टर नहीं आए तो वो एक बार फिर बच्ची को लेकर इमरजेंसी पहुंचा। करीब साढ़े 12 बजे तक बच्ची को कोई उपचार नहीं मिल सका और उसकी मौत हो गई।

सीएमओ डॉ. पीपी सिंह ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है, सीएमएस जिला अस्पताल और सीएमएस सौ शैया अस्पताल दोनों को पत्र जारी किया जा रहा है। आखिर बच्ची को भर्ती कर उपचार क्यों नहीं दिया गया जांच कराई जाएगी। जो भी दोषी उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।