सितारगंज में 'सूखी' नदी का जल स्तर बढ़ा, तटवर्ती इलाकों में दहशत, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य में लगी पुलिस टीम

 
SITARGANJ

  • रिपोर्टः तनवीर अंसारी

सितारगंज। नदियों का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती इलाकों के ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। पर्वतीय इलाकों में लगातार हो रही बरसात से नदी नाले उफान पर हैं। वही नदी के किनारे स्थित 200 से अधिक घरो में पानी घुस गया। जिसे लोग घबराकर घरों की छतों पर चढ़ गए है। पुलिस प्रशासन की टीम दिवारा लोगों को प्रभावित इलाकों से बाहर निकाला जा रहा है। प्रशासन ने लोगों को अलर्ट भी किया है।

वीओः- दरअसल शक्तिफार्म इलाके में लगातार जलस्तर बढ़ने से ग्रामीण क्षेत्रों में पानी भर गया है। पुलिस प्रशासन लगातार राहत एवं बचाव में लगा हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक सितारगंज में पिछले 24 घंटों में 110 एमएम बारिश हुई है। जिस वजह से नदियों का पानी बढ़ गया है। जिला प्रशासन ने नदी किनारे बसे लोगों को बाढ़ राहत शिविरों में ठहराने की व्यवस्था की है। उन्होंने लोगों को बारिश के दौरान मछली का शिकार करने नदियों में न जाने की सलाह दी।

तहसीलदार जगमोहन त्रिपाठी ने कई गांवों में मुनादी कराई है। इसके साथ ही सिंचाई खंड के ईई बीसी नैनवाल ने बैगुल, सूखी, कैलाश नदी के तटबंधों पर सिंचाई कर्मी तैनात किए हैं। वही कोतवाली पुलिस शक्तिफार्म क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को पानी से निकाल कर उन्हे सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का काम कर रही है।