मुरादाबाद में बोले आजम खान, ‘मैं गूंगा, बहरा और अंधा हूं, मुझें नहीं पता क्या सही है क्या गलत’

लुलु मॉल का मालिक RSS का फंड रेजर हैः आजम खान

 
मुरादाबाद

  • रिपोर्टः सुधीर गोयल

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में गुरुवार को समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान अपने बेटे अब्दुल्ला आजम के साथ एमपी एमएलए कोर्ट में पेशी पर पहुंचे। कोर्ट से बाहर निकलने के बाद आजम खान ने पत्रकारों से काफ़ी लंबी बातचीत की। पत्रकारों ने आज़म ख़ान से सवाल किया कि चर्चा है कि ओपी राजभर बीजेपी के साथ मिलकर समाजवादी पार्टी को खत्म करने में लगे हुए हैं। इस परआजम खान ने कहा कि समाजवादी पार्टी इतनी छोटी पार्टी नहीं है कि उसे कोई खत्म कर देगा। समाजवादी पार्टी एक बड़ी विचारधारा है। जिसे कोई खत्म नहीं कर सकता।

सावन में कावड़ियों की सेवा करते पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के ऊपर एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के बयान पर आजम खान ने कहा कि जो भी जवाब लेना है वो असदुद्दीन ओवैसी से लें। बयान असदुद्दीन ओवैसी ने दिया है। वहीं पश्चिम बंगाल में ईडी के छापों के बारे में आजम खान ने साफ कहा कि वे इस बारे में कुछ नहीं जानते हैं। उनके पास ना दिमाग है, ना आंखों मैं रोशनी है और न ही मुंह में जबान है, इसलिए उन्हें नहीं पता कि क्या सही है और क्या गलत है।

महंगाई के ऊपर आजम खान ने जवाब दिया कि देश में लोगों की आमदनी ज्यादा है, उन्होंने पत्रकारों की तरफ इशारा करते हुए भी कहा कि हर पत्रकार तीन से पांच लाख रुपए महीना कमा रहा है, जब आमदनी ज्यादा है तो फिर महंगाई की शिकायत किस लिए। समाजवादी पार्टी की सरकार ना बनने पर आजम खान ने कहा कि वह सिकंदर नहीं बन पाए हैं, लेकिन हां बंदर जरूर बन गए हैं, और उन्होंने बिना किसी का नाम लिए हुए उन्हें बंदर बनाने वाले को मदारी के नाम से संबोधित किया, और कहां कि आज वह बंदर बनकर कभी मुरादाबाद, कभी फिरोजाबाद तो कभी कहीं और बंदर बनकर दौड़ लगा रहे हैं।

लखनऊ के लुलु मॉल में नमाज और हनुमान चालीसा वाले मामले में आजम खान ने कहा के उस लुलु मॉल का मालिक आर एस एस का फाउंडर है, और नमाज पढ़ने वाले भी उसके ही थे और विवाद भी उसने ही पैदा किया है, अगर नाम बदलना है तो लुलु मॉल का नाम उसका मालिक बदले लेकिन वह नहीं बदलेगा उसे तो उस नाम से पैसा कमाना है। लुलु नाम का मज़ाक बनाने पर एक पत्रकार ने जब आज़म खान से कहा है कि लुलु लफ्ज़ कुरान पाक में भी लिखा हुआ है, तब आज़म खान ने पत्रकार से कहा ठीक है आप मुझे भी कुरान पढ़ा दीजिए और उल्टा मुस्लिम पत्रकारों से ही कुरान पर सवाल जवाब करने शुरू कर दिए।

देश में लगातार ईडी के छापों पर जब आज़म खां से पत्रकारों ने सवाल किया तो आजम खान ने फिर वही बात दोराही और कहा कि वô अंधे हैं उन्हें नहीं पता कि देश में क्या हो रहा है। अंत में जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि अखिलेश के ऊपर लोग निशाना लगा रहे हैं। तो आजम खान ने कहा कि इस बार जब वे अखिलेश सिंह यादव से मिलेंगे तो उन्हें तीर कमान देंगे और उनसे कहेंगे जो उनके ऊपर निशाना लगा रहा है, वो उस पर निशाना लगाएं। आज़म खान मुरादाबाद की एमपी एमएलए कोर्ट में अपने बेटे अब्दुल आज़म खान के साथ मुरादाबाद के छजलेट थाना क्षेत्र में वर्ष 2008 में दर्ज हुए मामले में पेश हुए थे।