मुजफ्फरनगरः अग्निपथ योजना को लेकर राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, 24 जून को करेंगे देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन

युवाओं के ऊपर हुई FIR  वापस लेने की सरकार से की मांग

 
राकेश टिकैत

  • रिपोर्टः गोपी सैनी

मुजफ्फरनगर। डिफेंस की अग्निपथ योजना का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश की राज्यों में सेना की तैयारी कर रहे नौजवान युवकों ने हिंसक प्रदर्शन करते हुए सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया है। जिसके बाद अब संयुक्त किसान मोर्चा और भारतीय किसान यूनियन ने भी सरकार के खिलाफ अग्निपथ योजना का विरोध किया है। मुजफ्फरनगर स्थित अपने आवास पर राकेश टिकैत ने 24 जून को देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया है।

राकेश टिकैत ने जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा के करनाल में संयुक्त किसान मोर्चा के साथ एक मीटिंग में ये निर्णय लिया गया है. कि आने वाली 24 तारीख को उत्तर प्रदेश के हर जनपद में जिला कलेक्ट्रेट और तहसील में अग्निवीर योजना के खिलाफ शांतिपूर्ण तरीके से धरना प्रदर्शन किया जाएगा। हमारी सरकार से यह मांग है की जब भी सरकार कोई योजना लेकर आए तो पहले उस पर ध्यान लगाकर सोचे कि इस योजना से नौजवान युवकों को क्या लाभ होगा। राकेश टिकैत ने बताया कि अग्निवीर योजना के विरोध में जो हिंसक प्रदर्शन हो रहा है उसमें सरकार के लोग प्रायोजित तरीके से भागीदार हैं। जिन युवाओं के ऊपर तोड़फोड़ और आगजनी की एफआईआर हुई है। सरकार उन्हें वापस ले।

राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ऐसी बीमारी को लेकर क्यों आई है पहले पूछ लेते या झटका मारना या 11 हजार का करंट देना जरूरी है। जो बच्चे कई कई साल से तैयारी कर रहे हैं उन्हें ये बताया गया है कि आप 4 साल में रिटायर हो जाओगे। कहा कि क्या 4 साल में कोई रिटायर होता है? अभी सरकार के अलग-अलग बयान आते हैं। हर रोज एक बयान बदलते हैं।

राकेश टिकैत ने कहा कि ये बता दिया जाता हैं कि कितनी रैंक तक आईएएस पीसीएस बनेंगे। ऐसा इसमें भी बताएं कि अगर 1000 की भर्ती करेंगे तो ढाई सौ बच्चे मिलिट्री में जाएंगे और दूसरी किसी और विभागों में जाएंगे लेकिन उन्होंने ये स्पष्ट किया है कि आप 4 साल में रिटायर हो जाएंगे। ये बच्चों की समझ में नहीं आया। टिकैत ने कहा कि हम तो अग्निपथ योजना पूर्ण रूप से विरोध में हैं और हम 24 तारीख को बड़ा प्रोग्राम संयुक्त किसान मोर्चा की कॉल पर करेंगे शांतिपूर्ण तरीके से डीएम और तहसीलों में यह प्रदर्शन करेंगे।

टिकैत ने बच्चों से भी कहा कि वे शांति बनाए रखें। हम उनकी लड़ाई लड़ रहे हैं। सरकार उनसे बातचीत भी करेगी। प्रदर्शन और लड़ाइयां लड़ने की जरूरत नहीं है। हम सब उनके साथ हैं। उनके अभिभावकों के भी साथ में हैं। जैसे 13 महीने दिल्ली में पूर्ण रूप से शांतिपूर्ण आंदोलन चला। ऐसे ही ये आंदोलन भी शांतिपूर्ण होना चाहिए। सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग जो सरकार के प्रायोजित होते हैं। बच्चों के बीच में घुसते हैं। वे तोड़फोड़ और आगजनी करते हैं। नाम बच्चों का आता है।

राकेश टिकैत ने कहा कि जितने भी बच्चों को जेल हुई है या जिनके खिलाफ केस दर्ज हुआ है उनको सरकार वापस करें। साथ ही कहा कि संविधान ने अपनी बात कहने की आजादी दी है। किसी का विरोध प्रदर्शन है तो आप उसे कैसे रोक लेंगे।