बिजली संकट पर केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने राजस्थान और झारखंड सरकार को लिया आड़े हाथ

आरके सिंह ने दोनों राज्यों को ठहराया कोयला संकट का जिम्मेदार

 
rk singh power minister

दिल्ली। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री, आरके सिंह ने राजस्थान और झारखंड सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि राजस्थान जिस कोयला संकट से गुजर रहा है उसका जिम्मेदार वो राज्य खुद है। उन्होंने कहा कि राज्य को कैप्टिव कोयला खदानें दी गई हैं अगर खनन में दिक्कत आई तो ये उनकी समस्या है। आर के सिंह ने कहा कि झारखंड राज्य ने भी बिजली संकट की समस्या को खुद खड़ा किया है। हमारे कोयला मंत्री को इस मुद्दे को सुलझाने के लिए कई बार वहां जाना पड़ा है।

आरके सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार गंभीरतापूर्वक बिजली संकट से निपटने में जुटी है। कुछ दिनों पहले बिजली की मांग में लगभग 20 प्रतिशत की वृद्धि को देखते हुए बिजली मंत्रालय ने सभी आयातित कोयला बिजली संयंत्रों को पूरी क्षमता से संचालित करने का आदेश दिया है। आपात स्थिति को देखते हुए, केंद्रीय बिजली मंत्रालय ने सभी राज्यों और घरेलू कोयले पर आधारित सभी उत्पादन कंपनियों को सम्मिश्रण के लिए कोयले की अपनी आवश्यकता का कम से कम 10 प्रतिशत आयात करने का निर्देश दिया है।

केंद्रीय उर्जा मंत्री ने कहा कि राजस्थान और झारखंड राज्य ने बिजली संकट की समस्या को खुद खड़ा किया है। उन पर डीवीसी का हजारों करोड़ का कर्ज है। बिजली मुफ्त नहीं है, अगर आप उन्हें भुगतान नहीं करेंगे, तो वे आपको कैसे देंगे?