Watch: मुजफ्फरनगर में उप चुनाव को लेकर बीजेपी के 2 विधायकों में फोन पर हुई बहस, ऑडियो वायरल

वार्ड 34 में प्रत्याशियों के समर्थन पर भीड़े एमएलसी वंदना वर्मा और विधायक विक्रम सैनी

 
VIKRAM SAINI

  • रिपोर्टः गोपी सैनी

मुजफ्फरनगर। जिला पंचायत वार्ड सदस्य उप चुनाव को लेकर बीजेपी के ही दो विधायक आमने सामने आ गए। उप चुनाव में प्रत्याशियों के समर्थन को लेकर दोनों के बीच फोन पर तीखी बहस हुई। जिसका ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। ऑडियो में बीजेपी विधायक विक्रम सैनी पार्टी की एमएलसी वंदना वर्मा को फोन कर आरोप लगा रहे हैं कि उन्होंने उन पर जातीय टिप्पणी की। ये ऑडियो 3 दिन पहला बताया जा रहा है।

पहले वायरल ऑडियो में उम्मीदवार रोशन लाल सैनी ने एमएलसी वंदना वर्मा को फोन कर समर्थन मांगा। उन्होंने उनके प्रति दया दृष्टि बनाने का अनुरोध किया। जिस पर एमएलसी वंदना वर्मा ने कह रही हैं कि जब विधायक विक्रम सैनी घूम सकते हैं तो मैं क्यों नहीं घूम सकती? विधायक जी अकेले सैनियो में घूम रहे हैं।

ऑडियो सुनने के लिए देखें पहला वीडियो

दूसरे ऑडियो में खतौली विधायक कहते हैं कि हांजी विक्रम सैनी बोल रहा हूं। फिर वंदना वर्मा कहती है जी विधायक जी राम, राम। जिसके बाद विक्रम सैनी बोले कि एक ऑडियो सुनी हमने आपकी आज, किसी ने वाट्सअप की। कि विक्रम सैनी गांव में घूम रहा है। किस गांव में घूम रहा हूं, बता दो। इस्तीफा दे दूंगा आज ही। जिसके बाद वंदना वर्मा बोलती है इस्तीफा देने से काम नहीं चलेगा। तो फिर विक्रम सैनी, नहीं मैं किस गांव में घूम रहा हूं, बता दो। वंदना वर्मा, मैं अपने आप पूछ कर बता दूंगी।

विक्रम सैनी कहते हैं कि नहीं पूछकर क्या बता दोगी। आपकी ऑडियो बता रही है कि मैं 70 जगह गया। मैं किस गांव में गया, मुझे बता दो, चुनाव संबंधी। ये कैंडीडेट आए थे। अमित कसाना आया था। रोशन आया था। मैने कहा जिसे पार्टी समर्थन करेगी उसके साथ रहेंगे। पार्टी समर्थन नहीं करेगी किसी के साथ नहीं रहेंगे।

आप जातिवाद की बात कर रही हैं साहब.. विक्रम सैनी जाटों को ये कह रहा, ठाकुरों को ये कह रहा। किसके सामने कहा? क्या मैं निर्वाल के साथ नहीं रहा। क्या जाट संजीव बालियान के साथ नहीं रहा क्या? आप कह रही हैं कि ऐसे घूम रहा है। जातिवाद मेरे अंदर नहीं है।

..आपको अपने घर बैठना चाहिए चुपचाप। मैं भी बैठा। नहीं तो हमे घूमना पड़ेगा। हम भी अपने सैनी नेता बुला लेंगे। बहुत नेता है हमारे। गुर्जर भी आ जाएंगे, सारे नेता आ जाएंगे। बिरादरी का चुनाव नहीं है। सारे आ जाएंगे फिर तो। विक्रम सैनी कहते है कि आप एमएलसी बीजेपी से बनी हो, खालिस अपनी बिरादरी से नहीं बनी। जिसके बाद वंदना वर्मा बलती है मैं तो कह रही हूं ना।

विक्रम सैनी, आप कह रही हैं कि मैने कहा..सारे पद जाट बिरादरी को ही चाहिए। ये किसने कहा, कब कहा। वंदना वर्मा, मैं बता दूंगी, आपको। जिस पर विक्रम सैनी कहते है अरे क्या बता देंगी। सुनी सुनाई बात, दुनिया कहती है। आप तो खुद ही सैनियों के खिलाफ हैं, जबकि सैनियों की वोट से आप जीती। सैनी हैं, गडरिये हैं, गुर्जर हैं।

वंदना वर्मा बोलती है मैं तो सबकी हूं। तो विक्रम सैनी बोलते है कि फिर आरोप क्यों लगा रही हैं आप। मैं कहने लगूं मुझे एक जाति ने वोट दी। सबने ही वोट दी। कोई कम दे, कोई ज्यादा दे। किसी कि 20 पर्सेंट मिल गई, किसी की 80 पर्संट मिल गई। फिर वंदना वर्मा कहती है एक जाति की वोट से कोई नहीं जीत सकता। विक्रम सैनी कहते है तो ऐसे बदनाम न करो।

ऑडियो सुनने के लिए देखें दूसरा वीडियो