UP: कांग्रेस के 'डूबते जहाज' से लगाई इमरान मसूद ने छलांग, सपा की साइकिल पर सवार होने का किया ऐलान

'पीएम मोदी की बोटी-बोटी' करने की धमकी से सुर्खियों में आए थे इमरान मसूद
 
imran masood with akhilesh yadav_samachar today

  • रिपोर्टः अमित सैनी, प्रधान संपादक

सहारनपुर। यूपी में कांग्रेस के डूबते जहाज से एक और कद्दावर नेता इमरान मसूद ने छलांग लगा दी है। विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही वेस्ट यूपी में कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने हाथ का साथ छोड़ने की घोषणा कर दी है, जिसकी वजह से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। इमरान मसूद ने कांग्रेस छोड़ समाजवादी की साइकिल पर सवारी करने का ऐलान कर दिया है। इससे पहले इमरान मसूद ने अपने समर्थकों के साथ एक बैठक बुलाई और उसके बाद ये ऐलान किया।

सपा में जाने की पहले से थी चर्चाएं
इमरान मसूद ने हालांकि सपा में जाने की घोषणा अब की है, लेकिन पिछले काफी लंबे समय से इस बात के संकेत मिल रहे थे कि वो सपा में जाएंगे। राजनीतिक गलियारे में भी इस बात की काफी चर्चाएं थी।

निर्दलीय जीते थे चुनाव
वेस्ट यूपी में अपनी अलग पहचान रखने वाले इमरान मसूद 2007 का विधानसभा चुनाव निर्दलीय ही जीत लिया था। इसके बाद उन्होंने 2012 का विधानसभा कांग्रेस के टिकट पर लड़ा था, लेकिन हार गए थे।

पहले भी सपा में रह चुके हैं मसूद
साल 2013 में इमरान मसूद समाजवादी पार्टी में शामिल हुए थे और उसके अगले ही साल फिर से कांग्रेस में वापसी कर ली थी। जिसके बाद इमरान मसूद ने कांग्रेस के टिकट पर सहारनपुर से 2014 और 2019 का लोकसभा चुनाव भी लड़ा, लेकिन दोनों ही चुनाव हार गए।

'पीएम मोदी को बोटी-बोटी' करने की दी थी धमकी
इमरान मसूद 2014 में उस वक्त भी सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने एक चुनाव अभियान के दौरान कथित रूप से नफरत भरे भाषण दिए थे और पुलिस ने इन्हे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इमरान मसूद ने कथित तौर पर 'PM नरेंद्र मोदी की बोटी-बोटी करने' की कथित धमकी दी थी।

imran masood on pm modi_samachar today

धमकी से मुकर गए थे इमरान
गत विधानसभा चुनाव 2017 में समाचार टुडे को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यु के दौरान इमरान मसूद अपनी कथित धमकी से मुकर गए थे। उन्होंने अपने इंटरव्यु में कहा था कि उन्होंने कभी भी पीएम मोदी को धमकी नहीं दी। उनका मतलब सबक सिखाने से था।

imran masood with rashid

राशिद मसूद के भतीजे हैं इमरान मसूद
इमरान मसूद राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखते हैं। वो सहारनपुर से कांग्रेस से पांच बार के लोकसभा सांसद रहे राशिद मसूद के भतीजे हैं। आपको ये भी बता दें कि राशिद मसूद का साल 2020 में निधन हो चुका है।