दिल्लीः बच्ची की मौत के मामले में सौरभ भारद्वाज ने एमसीडी को घेरा... जानें क्या कहा?

कहा, कागजों में कुत्तों का बंध्याकरण कर भ्रष्टाचार कर रही है

 
सोरभ

दिल्ली में मोती नगर के डीडीए पार्क में तीन साल की बच्ची को आवारा कुत्तों ने नोंच-नोंचकर मार डाला ये बच्ची पार्क में खेल रही थी, तभी आवारा कुत्तों का झुंड पहुंचा और बच्ची पर हमला कर दिया. मामले को लेकर आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि राजधानी दिल्ली में रोजाना करीब 5 हजार लोगों को कुत्ते काटते हैं. एमसीडी के अस्पतालों के अंदर एक दिन में 225 लोग आते हैं लेकिन इंजेक्शन उपलब्ध नहीं हो पाता। उन्होंने इसके लिए निगम को जिम्मेदार ठहराया

ये भी पढ़ेः दर्दनाक: कुरकुरे खा रही थी बच्ची… आवारा कुत्तों ने नोंच-नोंच कर मार डाला

दरअसल हाल ही में 17 दिसंबर को मोती नगर स्थित डीडीए पार्क में तीन साल की बच्ची को आवारा कुत्तों ने मार डाला था. भारद्वाज ने कहा है कि एमसीडी कागजों में कुत्तों का बंध्याकरण कर बड़ा भ्रष्टाचार कर रही है. उत्तरी नगर निगम ने 2020-21 में डॉग स्टेरलाइजेशन के लिए 15 करोड़ का आवंटन किया और इसके लिए केंद्र बनाने के नाम पर 5 करोड़ का आवंटित किए, जबकि दिल्ली में आवारा कुत्तों की आबादी लगातार बढ़ रही है. बंध्याकरण में भ्रष्टाचार को छिपाने के लिए एमसीडी ने 2009 से इनका सर्वे करना बंद कर दिया

ये भी पढ़ेः आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने बीजेपी की एमसीडी पर लगाए आरोप

भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली में कई एजेंसी हैं जिसकी वजह से लोग कंफ्यूज रहते हैं कि पार्षद, एमएलए और सांसद की क्या-क्या जिम्मेदारी हैं. आवारा पशुओं, गलियों के अंदर घूमती हुई गायों का मामला पूरी तरीके से एमसीडी का है. इन गायों के लिए दिल्ली सरकार बाकायदा पैसा देती है