मुजफ्फरनगर में लोगों ने किया सचिवालय बनाने का विरोध

सचिवालय को दूसरी जगह बनाने की उठाई मांग

 
मुजफ्फरनगर

  • रिपोर्टः गोपी सैनी

मुजफ्फरनगर। भारतीय अति पिछड़ा वर्ग संघर्ष मोर्चा के पदाधिकारी और कार्यकताओं ने पुरकाजी के लखनौती में बारातघर में सचिवालय बनवाने के विरोध किया। जिसकों लेकर पदाधिकारी और कार्यकताओं ने जिला मुख्यालय पर घरना दिया। इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहन प्रजापति ने कहा कि पुरकाजी के ग्राम लखनौती में एक व्यक्ति द्वारा दलितों को दान दी गई जमीन पर चंदा इकटठा कर बारात घर बनाया था। वहीं बारात घर की बाउंड्री में ही करीब 50 वर्ष पुराना संत रविदास का मंदिर बना हुआ है। आरोप है कि उस पर बीडीओ और सचिव प्रधान से मिलकर वहां पर सचिवालय बना रहे है।

मोहन प्रजापति ने कहा कि बारात घर में दलित वंचित समाज के लोग विवाह शादी और धार्मिक आयोजन करते है। लेकिन विडीओ, सचिव और प्रधान मिलकर बारातघर पर सचिवालय बना रहे है। जिसकी वजह से ग्राम वासियों समेत क्षेत्र के लोगों में आक्रोश है। वहीं उन्होंने कहा कि जिस प्रधान को ग्राम वासियों ने बनाया था। आज वही प्रधान ग्राम वासियों को असामाजिक तत्व बता रहा है। प्रधान गांव का माहौल खराब करना चाहता है। अगर ऐसा हुआ तो उसका जिम्मेदार प्रशासन और ग्राम प्रधान होगा।

भारतीय अति पिछड़ा वर्ग संघर्ष मोर्चा के पदाधिकारी और कार्यकताओं ने चेतावनी के साथ मांग की है कि प्रशासन ग्राम सचिवालय बारात घर को छोड़कर किसी अन्य स्थान पर बनवाने का काम करे। नहीं तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान संचालन वरिष्ठ नेता सुमित प्रजापति, इंद्रमल प्रजापति, ब्लॉक अध्यक्ष सुमित प्रजापति, जिलामंत्री सुमित प्रजापति, महिला नेत्री निर्मला देवी आदि मौजूद रहे।