मुजफ्फरनगर के शाहपुर में शांतिपूर्ण संपन्न हुई कावड़ यात्रा, बाबा नीलकंठ का आज होगा जलाभिषेक

शाहपुर में शिवभक्तों की सेवा में लीन दिखा पुलिस प्रशासन

 
मुजफ्फरनगर

  • रिपोर्टः खालिद सिद्दिकी (बुढ़ाना)

मुजफ्फरनगर। श्रावण मास में भगवान भोलेनाथ के जलाभिषेक का बहुत बड़ा महत्व है। इस माह में भगवान भोलेनाथ पर जल या दूध चढ़ाने से बहुत पुण्य मिलता है। हिंदू मान्यता के अनुसार श्रावण मास की चतुर्दशी के दिन भगवान विश्वनाथ पर जल चढ़ाने या दूध चढ़ाने से प्रसन्न होते हैंसाधक की मनोकामना पूरी होती है, घर में सुख समृद्धि आती है इस महा में शिवभक्त पूरी श्रद्धा से शिवभक्ति में लीन है। इस माह में शिव भक्त कावड़ लेकर जाते हैं

ऐसी मान्यता है कि इस माह में भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती पृथ्वी लोक पर निवास करते हैं। समुद्र मंथन में निकले विष को भगवान नीलकंठ ने पी लिया थाउसके ताप को शांत करने के लिए इसी माह में भगवान नीलकंठ पर जलाभिषेक किया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान विश्वनाथ का माता पार्वती से विवाह भी इसी माह में संपन्न हुआ था। धर्म नगरी शाहपुर में हर कोई बाबा भोलेनाथ की भक्ति में लीन है नगर चारो ओर बम बम भोले के जयकारों से गूंज उठा है। प्रत्येक व्यक्ति यथाशक्ति से कावड़ सेवा में लगा हुआ है, आज भगवान नीलकंठ पर जलाभिषेक होगा

शाहपुर में पुलिस प्रशासन निरंतर शिवभक्तों की सेवा में लीन दिखाई दिया थानाध्यक्ष राधेश्याम यादव एक पैर पर भक्तों की सेवा में दिन-रात खड़े रहे. और कावड़ यात्रा को सकुशल संपन्न करायानगर पंचायत शाहपुर, बिजली विभाग और स्वास्थ्य विभाग भी अपनी सेवाएं देने में तत्पर रहा। भावी प्रत्याशी उमेश मित्तल द्वारा चलाई गई फ्री एंबुलेंस सेवा ने भी बखूबी योगदान दिया

बता दें कि शाहपुर थाना इलाके में सैकड़ों शिवभक्तों द्वारा शिविरों का आयोजन किया गया। जिनमें हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने शिवभक्त कावड़ियों की सेवा कर उसका आनंद लिया। विशाल कावड़ यात्रा शाहपुर धर्म नगरी में शानदार तरीके से संपन्न हुई।