26 September 2021 , Sunday   |    Login  

दिल्लीः गैस सिलेंडर छोड मिट्टी के चूल्हे पर रोटी बनाने को मजबूर महिलाएं

रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | नोएडा

6 Mar

39K ने देखा




देश की राजधानी दिल्ली में महंगाई लोगों की आंखों से आंसू निकाल रही हैं। कोरोना महामारी के बाद लोग अब महंगाई की मार झेल रहे हैं। पेट्रोल-डीजल के साथ-साथ रसोई गैस पर लगातार बढ़ रहे रेट ने दिल्ली वालों को खून के आंसू रोने पर मजबूर कर दिया है। आलम ये है कि देश की हाईटेक राजधानी दिल्ली में भी महंगाई की वजह से गृहणियों को मिट्टी के चूल्हे चलाने पर मजबूर कर दिया है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोद ने साल 2016 में घर-घर गैस सिलेंडर पहुंचाने का वादा किया था, जिसको लेकर प्रधानमंत्री उज्जवल योजना शुरू की गई। योजना गांव में घर घर पहुंची या नहीं पहुंची, लेकिन देश की राजधानी दिल्ली में लोग अभी भी चूल्हे पर रोटी बनाने को मजबूर हैं। महिलाओं का साफ तौर पर कहना है कि सिलेंडर दिन प्रतिदिन महंगा होता जा रहा है। हम लोग मजदूरी करते हैं। लोगों के घरों में जाकर बर्तन साफ करते हैं। हम इतना महंगा सिलेंडर नहीं खरीद सकते। महिलाओं को ये भी कहना है कि मिट्टी के चूल्हे पर रोटी बनाना मजबूरी है। हम लोग एक टाइम चूल्हा जलाते हैं और उस पर दो टाइम का खाना बना लेते हैं ताकि हमें बार-बार चूल्हा ना जलाना पड़े। और ना ही हमारी आंखों में धुआं लगे। बढ़ती महंगाई की वजह से जब दिल्ली जैसे हाईटेक शहर का ये आलम है। तो साफ तौर पर जाहिर है कि छोटे-छोटे शहरों और गांव-देहात में क्या हालात होंगे। अब देखने वाली बात ये भी होगी कि आखिरकार केंद्र सरकार रसोई गैस और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर कैसे पार बसाती है।

FACEBOOK TwitCount LINKEDIN Whatsapp



विज्ञापन

विज्ञापन

विज्ञापन


© COPYRIGHT Samachar Today 2019. ALL RIGHTS RESERVED. Designed By SVT India