राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने सुनी महिलाओं की समस्या, दिए समाधान के निर्देश

हर जरूरतमंद महिला को योजनाओं का लाभ दिलाने पर दिया जोर

 
लखनऊ

लखनऊ। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम ने सर्किट हाउस अलीगढ़ में बैठक से पूर्व महिलाओं की समस्याओं को सुना। उसके बाद विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जरूरतमंद महिलाओं को सरकार की योजनाओं का लाभ जरूर मिले। ये सुनिश्चित करना उनका काम है। उन्होंने विधवा पेंशन, कन्या सुमंगला योजना, मिशन शक्ति स्वावलंबन कार्यक्रम और सरकार की विभिन्न योजनाओं पर विशेष प्रकाश डालते हुए सभी विभागाध्यक्षों से अपेक्षा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से संचालित योजनाओं का महिलाओं को त्वरित लाभ दिया जाए। महिलाओं से संबंधित विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं विषयक जागरूकता शिविर भी चलते रहने चाहिए।

विमला बाथम ने कहा कि द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति बनाना सरकार का महिला सशक्तिकरण की दिशा में महत्वपूर्ण एवं सराहनीय कदम है। उनका राष्ट्रपति बनना महिलाओं के लिए बडे ही गौरव की बात है। अधिकतर महिलाओं को सरकार द्वारा महिला हित में लिए चलाई जा रही विभिन्न प्रकार की रोजगारपरक एवं जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी नहीं है। इसलिए सभी संबंधित अधिकारी महिलाओं को जागरूक कर उन्हें सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण पहल करें।

एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत ने बताया कि महिलाओं से संबंधित जो भी शिकायतें मिलती हैं। उनका शीघ्र निस्तारण किया जाता है। प्रत्येक थाने पर स्थापित महिला हेल्प डेस्क पर 2 महिलाओं की तैनाती की गई है। हैल्प डेस्क पर 24 घंटे शिकायतें सुनी जाती हैं। महिलाओं की मदद के लिए संचालित हेल्पलाइन नंबर के बारे में विभिन्न माध्यमों से महिलाओं को अवगत कराया जा रहा है।

इस अवसर पर मीना कुमारी सदस्य राज्य महिला आयोग, रामसखी कठेरिया सदस्य राज्य महिला आयोग द्वारा भी चौपाल में जन शिकायतों को सुना गया। तहसील कोल में आयोजित कार्यक्रम में अध्यक्ष एवं सदस्य राज्य महिला आयोग द्वारा प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में उपस्थित महिलाओं को जानकारी उपलब्ध कराई।