बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे नहीं झेल पाया पहली बारिश, कई जगह धंसी सड़क और आई दरारें

16 जुलाई को प्रधानमंत्री ने किया था उद्घाटन

 
broken road

 

  • रिपोर्टः शहजाद अहमद

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन प्रधानमंत्री मोदी ने 16 जुलाई को किया था। वहीं पहली बारिश के बाद ही इसकी गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो गए हैं। ये एक्सप्रेस-वे बांदा में तीन जगह से फट गया है। बता दें कि उद्घाटन के दिन यूपीडा की प्रशंसा में बड़े-बड़े कसीदे पढ़े जा रहे थे, वहीं सिर्फ 2 दिन की बारिश में हकीकत सामने आ गई। वहीं अभी भी यूपीडा क़े लोग सरकार को धोखे में रखना चाह रहे हैं। डैमेज एक्सप्रेसवे को वीडियो में कैद करते देख उन्होंने पुट्टी और सीमेंट से ठीक कर दिया। एक्सप्रेसवे की इस तरह से खराब होने से किसी भी समय बड़ा हादसा हो सकता है।

दरअसल... 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जालौन में बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था। वहीं पहली ही बारिश ने उसकी पोल खोल कर रख दी है, बारिश के बाद बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की सड़क 2 से 3 फीट तक धंस गई है। एक के बाद एक करके कई गाड़ियां गड्ढे में गिरने की वजह से क्षतिग्रस्त हो गईं, वहीं कई यात्री घायल हो गए। जालौन से 195 किलो मीटर की दूरी पर रोड धंस गया है, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी हो रही है।

एक्सप्रेस-वे के किनारे बना नाला बहने से सड़क धंसी

बांदा और जालौन के बाद औरैया में भी एक्सप्रेस-वे की सड़क धंसने का मामला सामने आया है. इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य में की गई लापरवाही खुलकर सामने आ गई है। एक सप्ताह पहले उद्घाटन हुए बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की सड़क कटने और नाले के धंसने से इसके निर्माण कार्य पर सवालिया निशान उठ रहे हैं. बता दें कि 296 किलोमीटर लंबे इस एक्सप्रेसवे का निर्माण 14850 करोड़ की लागत से हुआ है. वहीं 2 दिन की बारिश ने इसकी हकीकत दिखा दी है. औरैया के सदर औरैया तहसील क्षेत्र के ग्राम मिहौली के पास बने टोल प्लाजा के पास सड़क धंस गई है.