नैनीझील के जलस्तर में रिकॉर्ड गिरावट, गहरे संकट में नैनीताल

इतिहास के सबसे कम स्तर पर पहुंच गया नैनी झील का जलस्तर

 
नैनीताल

  • रिपोर्टः अबुबकर मकरानी

नैनीताल। सरोवर नगरी में औसत से कम वर्षा होने के कारण संकट गहरा गया है। मॉनसून सीजन में बारिश कम होने के कारण अब नैनी झील का जलस्तर इतिहास के सबसे कम स्तर पर पहुंच गया है। माना जा रहा है कि ऐसे ही हालात रहने पर आगामी गर्मी के सीजन में पानी का भयंकर संकट नैनीताल में खड़ा हो सकता है।

दरअसल इस मॉनसून सीजन 565 मिमी ही वर्षा हुई, जो कि नैनीताल में मानसून के दौरान होने बारिश के रिकॉर्ड से बेहद कम है। मानसूम सीजन का अंत नजदीक है और ऐसे में अभी तक अधिक बारिश न होना नैनी झील की सेहत पर भारी पड़ा है। झील नियंत्रण कक्ष प्रभारी रमेश सिंह ने ये जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में झील का जलस्तर सामान्य से आठ फीट ऊपर है। मगर पिछले साल ये ही 12 फीट था। अगर आने वाले सर्दियों के मौसम में उम्मीद के मुताबिक बारिश नहीं हुई तो जल संकट का सामना करना पड़ेगा। हाल ही मे हुए एक शोध में नैनीताल की झील में लेड और आयरन की मात्रा अधिक पाई गई थी। जो झील के लिए अच्छा नहीं है।